Please Wait...

सत्संग का प्रसाद: The Grace of Satsang

सत्संग का प्रसाद: The Grace of Satsang
$2.40$3.00  [ 20% off ]
Item Code: GPA175
Author: स्वामी रामसुखदास (Swami Ramsukhdas)
Publisher: Gita Press, Gorakhpur
Language: Hindi
Edition: 2013
ISBN:
Pages: 80
Cover: Paperback
Other Details: 8.0 inch X 5.5 inch

नम्र निवेदन

प्रस्तुत पुस्तकमें परम श्रद्धेय स्वामीजी श्रीरामसुखदासजी महाराजद्वारा बीकानेरमें चातुर्मास्य सत्संग सं० २०४२ के अवसरपर किये गये कुछ विशेष प्रवचनोंका संग्रह किया गया हैये प्रवचन सभी साधकोंके लिये अत्यन्त महत्वपूर्ण और उपयोगी हैंकल्याणके इच्छुक सभी भाईबहनोंसे मेरा निवेदन है कि वे इनका अध्ययनमनन करके लाभ उठानेकी चेष्टा करें

 

विषय सूची

1

खण्डन मण्डनसे हानि

5

2

एक निश्चय

12

3

कर्म किसके लिये

17

4

विकार आपमें नहीं हैं

25

5

राग द्वेषका त्याग

30

6

सत्संगकी आवश्यकता

41

7

अहंताका त्याग

48

8

ममताका त्याग

64

9

मन बुद्धि अपने नहीं

73

 

Add a review

Your email address will not be published *

For privacy concerns, please view our Privacy Policy

Post a Query

For privacy concerns, please view our Privacy Policy

Related Items