Please Wait...

पत्थर गली: Stone Street

पुस्तक परिचय

"मुस्लिम समाज सिर्फ 'गजल ' नहीं है, बल्कि एक ऐसा 'मर्सिया' है जो वह अपनी रूढ़िवादिता की कब्र के सिरहाने पढ़ता है | पर उसके साज और आवाज को कितने लोग सुन पाते है, और उसका सही दर्द समझते है ? " लेखिका द्वारा की गई यह टिपण्णी इन कहानियों की पृष्ठभूमि और लेखकीय सरोकार को जिस संजदगी से संकेतित करती है, कहानियो से गुजरने पर हम उसे और अधिक सघन होता हुआ पाते है |

नासिरा शर्मा ने लेकिन जिस अनुभव जगत को अपनी रचात्मकता के केंद्र में रखा है, वह उन्हें और उनकी संवेदना को पीढ़ियों और देश-काल के ओर-छोर तक फैला देता है | एक रूढ़िग्रस्त समाज में उसके बुनियादी अर्धांश-नारी जाति की घुटन, बेबसी, और मुक्तिकामी छटपटाहट का जैसा चित्रण इन कहानियों में हुआ है, अन्यत्र दुर्लभ है | बल्कि ईमानदारी से स्वीकार किया जाय तो ये कहानियाँ नारी की जातीय त्रासदी का मर्मान्तक दस्तावेज है, फिर चाहे वह किसी भी सामन्ती समाज में क्यों न हो | दिन-रात टुकड़े-टुकड़े होकर बँटते रहना और दम तोड़ जाना ही जैसे उसकी नियति है | रचना-शिल्प की दृष्टि से भी ये कहानियाँ बेहद सधी हुई है | इनसे उद्घाटित होता हुआ यथार्थ अपने आनुभूतिक आवेग के कारण काव्यात्मकता से सराबोर है, यही कारण है की लेखिका अपनी बात कहने के लिए न तो भाषायी आडम्बर का सहारा लेती है, न किसी अमूर्तन का और न किसी आरोपित प्रयोग और विचार का | उसमे अगर विस्तार भी है तो वह एक त्रासद स्थिति के काल-विस्तार को ही प्रतीकित करता है | कहना न होगा की नासिरा शर्मा की ये कहानियाँ हमें अपने चरित्रों की तरह गहन अवसाद , छटपटाहट और बदलाव की चेतना से भर जाती है |





Sample Page


Add a review

Your email address will not be published *

For privacy concerns, please view our Privacy Policy

Post a Query

For privacy concerns, please view our Privacy Policy

CATEGORIES

Related Items