सत्य के प्रयोग अथवा आत्मकथा: Autobiography of Mahatma Gandhi

सत्य के प्रयोग अथवा आत्मकथा: Autobiography of Mahatma Gandhi

FREE Delivery
$33
Quantity
Ships in 1-3 days
Item Code: NZD088
Author: मोहनदास करमचंद गांधी (Mohandas Karamchand Gandhi)
Publisher: Navajivan Publishing House
Language: Hindi
Edition: 2009
ISBN: 8172290500
Pages: 470
Cover: Paperback
Other Details 7.0 inch X 5.0 inch
Weight 330 gm
23 years in business
23 years in business
Shipped to 153 countries
Shipped to 153 countries
More than 1M+ customers worldwide
More than 1M+ customers worldwide
Fair trade
Fair trade
Fully insured
Fully insured

प्रस्तावना

चार या पाँच वर्षं पहले निकटके साथियों के आग्रहसे मैंने आत्मकथा लिखना स्वीकार किया था और उसे आरम्भ भी कर दिया था । किन्तु फुलस्केपका पृष्ट या द्रा नहीं कर पाया था कि इतनेमें बम्बईकी ज्वाला प्रकट हुई और मेरा शुरू किया हुआ काम अश्वा रह गया । उसके बाद तो मैं एकके बाद एक ऐसे व्यवसायों में फँसा कि अन्नमें मुझे यरवडाका जपना स्थान मिला । भाई जयरामदास भाई वहाँ थे । उन्होंने मेरे सामने अपनी यह माग रखी कि दूसरे सब काम छोडकर मुझे पहले आत्मकथा ही लिख डालनी चाहिये । मैंने उन्हैं जवाब दिया कि मेरा अभ्यास क्रम बन चुका हैँ और उसके समाप्त होने तक मैं आत्मकथाका आरम्भ नहीं कर सकूँगा । अगर मुझे अपना पूरा समय यरवडामें पितानेका सौभाग्य प्राप्त हुआ होता तो मैं जरूर आत्मकथा वहीं लिख सकता था । परन्तु अर्श अभ्यास-क्रमकी समाप्तिमें भी एक वर्ष बाकी था कि मैं रिहा कर दिया गया । उससे पहले मैं किसी तरह आत्मकथाका आरम्भ भी नहीं कर सकता था । इसलिए वह लिखी नहीं जा सकी । अब स्वामी आनन्दने फिर वही माँग को है । मैं दक्षिण अफ्रीकाके सत्याग्रहका इतिहास लिख चुका हूँ इसलिए आत्मकथा लिखनेका ललचाया हूँ । स्वामीकी माँग तो यह थी कि मैं पूरी कथा लिख डालूँ और फिर वह पुस्तके रूपमें को । मेरे पास इकट्ठा इतना समय नहीं है । अगर लिखूं तो 'नवजीवन' कै लिए ही मैं लिख सकता हूँ । मुझे 'नवजीवन ' के लिए कुछ तो लिखना ही होता है । तो आत्मकथा ही क्यों न लिखूँ ? स्वामीने मेरा यह निर्णय स्वीकार किया और अब आत्मकथा लिखनेका अवसर मुझ मिला ।

किन्तु यह निर्णय करने पर एक निर्मल साथीने, सोमवारके दिन जब में मौनमें था, धीमेसे मुझे यों कहा ''आप आत्मकथा क्यों लिखना चाहते हैं? यह ता पश्चिमकी प्रथा है । पूर्वमें ता किसीने लिखी जानी नहीं । आज लिखेंगे क्या? आज जिस वस्तुका आप सिद्धान्तके रूपने मानते हैं, उसे कल मानना छोड दें तो ? अथवा सिद्धान्तका अनुसरण करके जो भी कार्य आज आप करते हैं, उन कार्योंमें बादमें हेरफेर कर तो? बहुतस लोग आपके लेखोंको प्रमाणभूत उनके अनुसार अपना आचरण गढ़ते हैं । वे गलत रास्ते चले जाये तो? इसलिए सावधान रहकर फिलहाल आत्मकथा जैसी कोई चीज न लिखें, तो क्या ठीक न होगा?''

इस दलीलका मेरे मन पर थोडा - बहुत असर हुआ । लेकिन मुझे आत्मकथा कहीं लिखनी है? मुझे तो आत्मकथाके बहाने सत्वके जो अनेक प्रयोग मैंने किये हैं, उनकी कथा लिखनी है । यह सच है कि उनमें मेरा जीवन ओतप्रोत होनेके कारण कथा एक जीवन- वृत्तांत जैसी बन जायेगी । लेकिन अगर उसके हर पन्ने पर मेर प्रयोग ही प्रकट हों, तौ मैं स्वय उस कथाको निर्दोष मानूँगा । मैं ऐसा मानता हूँ कि मेरे सब प्रयोगोंका क्ष लेखा जनताके सामने रहे, तो वह लाभदायक सिद्ध होगा - अथवा या समझिये कि यह मेरा मोह है । राजनीतिके क्षेत्रमें हुए मेरे प्रयोगोको नौ अब हिन्दुस्तान जानता है; यही नहीं बल्कि थोड़ी - बहुत मावामें सभ्य कहीं जानेवाली दुनिया भी उन्हें जानती है । मेरे मन इसकी कीमत कमसे कम है, और इसलिए इन प्रयोगों के द्वारा मुझे 'महात्मा' का जो पद मिला है, उसकी कीमत भी कम ही है । कई बार तो इस विशेषणने मुझे बहुत अधिक दु:ख भी है । मुझे ऐसा एक भी क्षण याद नहीं है, जब इस विशेषणके कारण मैं फूल गया होऊँ । लेकिन अपने आध्यात्मिक प्रयोगोंका, जिन्हैं मैं ही जान सकता हूँ और जिनके कारण राजनीतिके क्षेत्रमें मैरी शक्ति भी जन्मी है, वर्णन करना मुझे अवश्य हा अच्छा लगेगा । अगर ये प्रयोग सचमुच आध्यात्मिक हैं, तौ इनमें गर्व करनेकी गुजाइश ही नहीं । इनसे तो केवल नम्रताकी ही वृद्धि होगी । ज्यों - ज्यों मैं विचार करना जाता हूँ भूतकालके अपने जीवन पर दृष्टि डालता जाता हूँ लगे -त्यों अपनी अल्पता मैं सपष्ट ही देख सकता हूँ । मुझे जो करना है, तीस वर्षोंसे मैं जिसकी आतुर भावसे रट लगाये हुए हूँ वह तो आत्म-दर्शन है, ईश्वरका साक्षात्कार है, मोक्ष है । मेरे सारे काम इसी दृष्टिसे होते हैं । मेरा सब लेखन भी इसी दृष्टिसे होता है; और राजनीतिके क्षैत्रमें मेरा पडना भी इसी वस्तुके अधीन है ।

लेकिन ठेठसे ही मेरा यह मत रहा है कि जो एक लिए है, वह सबके लिए भी शक्य है। इस कारण मेरे प्रयोग खानगी नहीं हुए, नहीं रहे । उन्हें सब देख सके तो मुझे नहीं लगता कि उससे उनकी आध्यात्मिकता कम होगी । अवश्य ही कुछ चीजें ऐसी हैं, जिन्हें आत्मा ही जानती है, जो आत्मामें ही समा जाती है। परन्तु ऐसी वस्तु देना मेरी शक्तिसे परेकी बात है ।

 

विषय-सूची

प्रकाशकका निवेदन

3

प्रस्तावना

5

1

पहला भाग

1-75

2

दूसरा भाग

78-163

3

तीसरा भाग

166-226

4

चौंथा भाग

229-336

5

पाँचवा भाग

342-452

Add a review
Have A Question

For privacy concerns, please view our Privacy Policy

CATEGORIES